शारीरिक दुर्बलता के उपचार का पारंपरिक नुस्खा – Traditional tip to get rid of weakness

यह सन्देश वैद्य रामप्रसाद निषाद का फरसगांव, जिला कोंडागांव, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में रामप्रसाद निषादजी हमें शारीरिक कमजोरी को दूर करने का पारंपरिक नुस्खा बता रहे है. इनका कहना है कि जिन व्यक्तियों को शारीरिक कमजोरी लगती हो, पेट में गैस बनती हो, श्वांस फूलती हो उनके लिए यह नुस्खा कारगर है. इसके लिए अजवाइन को भूनकर उसका चूर्ण बना ले और उसमे बराबर मात्रा में गुड मिलाकर इसे एक चम्मच की मात्रा में तीन माह तक पानी के साथ सुबह-शाम खाने से रक्त शुद्ध होकर शारीरिक कमजोरी में राहत मिलती है रक्त का शुद्धिकरण होने से चेहरे की चमक बढ़ती है. जिन्हें मधुमेह की शिकायत हो उन्हें इसे सैंधा नमक के साथ खाना चाहिए.

This is a message of vaidya Ramprasad Nishad from Farasgaon, dist. Kondagaon, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional tip to get rid of weakness. He says this tip is useful for persons who has weakness, respiratory & stomach gas related problems. For treatment mix roasted carom seeds powder in jaggery in equal quantity & is to be taken in 1 spoon quantity twice a day with water for three consecutive months. It is helpful in blood purification. It’s also increases face glossiness. Diabetic persons should use rock salt instead of jaggery  while taking this combination.

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *