आपका स्वास्थ्य आपके मोबाइल में: बकरी के पेशाब से दमा का इलाज-

ग्राम-सलेय्या कला, पोस्ट-सावरी बाज़ार, तहसील-मोहखेड़, जिला-छिन्दवाडा (मध्यप्रदेश) से सविता धुर्वे प्राकृतिक चिकित्सा के बारे में जानकारी दे रही है कि कैसे बकरी के पेशाब से दमा और खांसी का उपचार किया जाता है. छोटे बच्चों को इंजेक्शन नही लगाते है बचपन में तो अगर उनको सर्दी खांसी हो जाती है तो क्षेत्र के लोग सुबह सुबह गर्म बकरी का मूत्र २ चम्मच पिला देने से ठीक हो जाते है. किसी को दमा साँस की बीमारी हो तो वो भी सुबह एक कप बकरी का मूत्र पीने से ठीक हो जाता है. वे बता रही हैं कि गाँव के लोगों के पास पैसे काम होते हैं इसलिए इस तरह की प्राकृतिक चिकित्सा उनके लिए अधिक उपयोगी है इस तरह की चिकित्सा में साइड अफेक्ट भी नहीं होता। सविता धुर्वे@7509070023.

Download (2 downloads)

Share This:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *