Tag Archives: काली मिर्च / Black pepper

सर्दी-खाँसी का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of Cold & Cough

इस सन्देश में स्वास्थ्य स्वर के एच डी गाँधी शीतकाल में होने वाले सर्दी-जुकाम का पारंपरिक उपचार की विधि बता रहें है जो इस प्रकार है तुलसी की 7 पत्तियाँ, 5 कालीमिर्च के दाने और 25 ग्राम गुड को एक गिलास पानी में उबालें और जब ¼ पानी बचे तो उस गुनगुने पानी को भोजन के बाद सुबह-शाम पीने से शीतकाल में होने वाले सर्दी-जुकाम में लाभ मिलता है. सर्दी-जुकाम के साथ ही खाँसी होने पर 1 चम्मच सितोप्लादी चूर्ण (बाजार में उपलब्ध), 1 चम्मच शहद और ½ चम्मच पान के रस को मिलाकर लेने से खाँसी में लाभ मिलता है.

As per vaid H D Gandhi of Swasthya Swara is suggesting us traditional treatment of Cough & Cold often caused in winter. Boil 7 Basil leaves, 5 Nos Black pepper & 25 gms Jaggery in 1 glass water & when  ¼ water remains drinking this lukewarm combination after meal twice a day is useful. In case of cough taking 1 spoon Sitopladi powder (Available in local market) after mixing with 1 spoon Honey &  ½  spoon Betel leaves juice is helping in get rid of cough. Swasthya Swara @ 8602008999

Share This:

जोड़ो के दर्द का पारंपरिक घरेलू उपचार – Traditional home treatment of Joint pain

जिला बालोद, छत्तीसगढ़ निवासी वैद्य हरीश चावड़ा हमें हड्डी और जोड़ो के दर्द का पारंपरिक घरेलु उपचार बता रहे है. इनका कहना है कि इस नुस्खे को बनाने के लिए 100 ग्राम कुलंजन, 100 ग्राम सौंठ, 20 ग्राम कालीमिर्च और 50 ग्राम आमी हल्दी को पीसकर महीन चूर्ण बनाकर उसमे थोड़ी सी मिश्री या गुड मिलाकर उसकी छोटी-छोटी (लगभग 3 ग्राम प्रति गोली) गोलियाँ बना लें.  इन गोलियों को प्रतिदिन 1 गोली की मात्रा में सुबह-शाम खाली पेट लगातार 2 माह तक लेने से हड्डी और जोड़ो के दर्द में लाभ मिलता है.

Vaidy Harish Chawda of vill. Gunderdehi, Dist Balod, Chhatisgarh is suggesting traditional home remedy for joint pain. Make fine powder of 100 gms Kulanjan (Alpinia galanga), 100 gms dried Ginger, 20 gms Black peeper & 50 gms Turmeric & after adding little Jaggery make small pills (Approx. 3 gms each). Taking this 1 pill empty stomach twice a day continuously for 2 months is useful for getting relief in Joint pain. Swasthya Swara @ 8602008999

Share This:

मोटापा घटाने का पारंपरिक उपाय – Traditional tips for reducing weight

वैद्य लोमेश बच कोरबा, छत्तीसगढ़ से हमें मोटापा घटाने के कुछ पारंपरिक उपायों के बारे में बता रहें है. इनके अनुसार त्रिकटू चूर्ण (कालीमिर्च-लौंग पीपर-सौंठ का मिश्रण) और त्रिफला चूर्ण (बहेड़ा-हर्रा-आंवला का मिश्रण) को समभाग और थोडा सा सैंधा नमक मिलाकर रखें. प्रतिदिन इस चूर्ण को 1 चम्मच की मात्रा में  नियमित इसे 6 माह तक लेना मोटापा घटाने में मददगार है. प्रतिदिन प्रातः 250 मी.ली गुनगुने पानी में 20 ग्राम शहद मिलाकर इसे लगातार 3 माह तक लेने से भी मोटापा घटाने में मदद मिलती है.

Vaid Lomesh Bach of Korba, Chhatisgarh is telling us traditional tips which is helping in to get rid of Obesity. As per him mix Trikatu powder (Mixture of Black peeper- Piper longum & Dry ginger) and Triphala powder (Mixture of Terminalia Belerica-Indian gooseberry & Terminialia chebula) in equal quantity and after adding little Rock salt taking this powder daily in 1 spoon quantity for 6 months is useful. Taking 250 ml lukewarm water after adding 20 gms Honey in early morning for consecutively 3 months is also beneficial.

Share This:

मधुमेह को नियंत्रित करने का पारंपरिक उपाय – Traditional method for managing diabetes

यह सन्देश वैद्य चंद्रकांत शर्मा का मुंगेली, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में चंद्रकांतजी हमें मधुमेह को नियंत्रण में रखने के पारंपरिक उपायों के बारे में बता रहे है. इनका कहना है कि गूलर अथवा मूली की पत्तियों का 3 मी.ली पीने अथवा सुबह बेल की 10 पत्तियों के रस में 2-10 कालीमिर्च मिलाकर पीने से मधुमेह में लाभ मिलता है. 20-50 मी.ली बड के छाल का काढ़ा पीने से अथवा बड के 2-10 फल खाने से भी मधुमेह में लाभ होता है. प्रतिदिन सुबह करेले का रस लेने से अथवा अगर करेले का रस उपलब्ध न हो तो करेले के टुकड़ों को छाँव में सुखाकर उसका बारीक़ चूर्ण बनाकर उसे सुबह-शाम 10-10 ग्राम की मात्रा में 3-4 महीनो तक लेने से मधुमेह में लाभ मिलता है.

This is a message of vaidya Chandrakant Sharma from Mungeli, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional treatment tips for managing diabetes. He says taking 3 ml juice of Cluster fig leaves or Radish leaves is useful in managing diabetes. At morning taking juice of 10  Aegle marmelos leaves also known as Bael tree after adding 2-10 black pepper is useful. Taking 20-50 ml decoction of banyan’s bark or eating 2-10 banyan fruit is also beneficial. Taking bitter gourd juice every morning or In case of unavailability of bitter gourd juice you can take 10 gms powder of shadow dried bitter gourd continuously 3-4 month is also useful.

Share This:

गठियावात का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of Arthritis

यह सन्देश लोमेश कुमार बच का कोरबा छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में लोमेशजी हमें गठियावात में होने वाले जोड़ो के दर्द के उपचार का पारंपरिक तरीका बता रहे है. इनका कहना है कि गठियावात में जोड़ो का दर्द अत्यंत तकलीफदेह होता है. इसके उपचार के इन्द्रायण के जड़ 50 ग्राम, शुद्ध और शोधित कुचला 50 ग्राम और कालीमिर्च 50 इन तीनो को बारीक पीसकर इसे सूती कपडे से छानकर इसमें शहद मिलाकर इसकी चने के आकार की गोलियाँ बना कर रख ले. इन गोलियों को 1 गोली की मात्रा में प्रतिदिन रात्रि को सोते समय पानी के साथ देने से गठियावात में होने वाले जोड़ो के दर्द में लाभ मिलता है.

This message is of Lomesh Kumar Bach from Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional remedy for Arthritis joint pain. Grind 50 gms dried Indrayan (Citrullus colocynthis) also known as Bitter cucumber, 50 gms detoxified Kuchla (Nux vomica) & 50 gms Black pepper. Cloth filter the powder and add some honey to make gram sized pills. Taking one pill at bed time with water is beneficial for relief in Arthritis joint pain.

Share This:

गठियावात के दर्द का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of Arthritis pain

यह सन्देश लोमेश कुमार बच का कोरबा छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में लोमेशजी हमें गठियावात में होने वाले जोड़ो के दर्द के उपचार का पारंपरिक तरीका बता रहे है. इनका कहना है कि गठियावात में जोड़ो का दर्द अत्यंत तकलीफदेह होता है. इसके उपचार के इन्द्रायण के जड़ 50 ग्राम, शुद्ध और शोधित कुचला 50 ग्राम और कालीमिर्च 50 इन तीनो को बारीक पीसकर इसे सूती कपडे से छानकर इसमें शहद मिलाकर इसकी चने के आकार की गोलियाँ बना कर रख ले. इन गोलियों को 1 गोली की मात्रा में प्रतिदिन रात्रि को सोते समय पानी के साथ देने से गठियावात में होने वाले जोड़ो के दर्द में लाभ मिलता है.

This is a message of Lomesh Kumar Bach from Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional remedy to get rid of joint pain causing due to Arthritis. He says it is very painful situation for Arthritis patients. For remedy grind 50 gms dried Indrayan (Citrullus colocynthis) also known as Bitter cucumber,  50 gms Kuchla (Nux vomica) & 50 gms Black pepper & after cloth filtration add some honey to it & make gram sized pills. Taking this pills in one pill quantity at bed time with water is beneficial for joint pain causing due to Arthritis.

Share This:

बच्चों की खाँसी का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of cough in children

यह सन्देश वैद्य लोमेश बच का कोरबा, छत्तीसगढ़ से है. इस सन्देश में लोमेशजी हमें बच्चो को होने वाली खांसी का पारंपरिक उपचार बता रहे है. इनका कहना है की इसके उपचार के लिए  20 ग्राम मुल्हैठी, 10 ग्राम सौंठ, 10 ग्राम कंचनभस्म, 10 ग्राम कालीमिर्च, 10 ग्राम वंशलोचन, 10 ग्राम पिप्पली चूर्ण और 20 ग्राम मिश्री को बारीक़ पीसकर सूती कपडे से छानकर इसे किसी काँच की बोतल में रखे. इसे  ¼ – ½ ग्राम की मात्रा में शहद या गुनगुने पानी से दिन में तीन बार देने से खांसी में लाभ मिलता है.

This is a message of Lumesh Kumar Buch from Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional remedy of cough often caused in children. He says for the treatment of this cough grind 20 gms Liquorice, 10 gms Dry ginger, 10 gms, 10 gms Tankan bhasm (prepared from borax & easily available in market), 10 gms Piper longum & 20 gms Sugar candy to make fine powder. After cloth filtration store this combination in any airtight glass bottle. Giving this combination three times a day in ¼ – ½ gms quantity with Honey or lukewarm water to the children is useful in cough.

Share This:

बाल झड़ने की समस्या का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of hair loss problem

यह सन्देश चंद्रकांत शर्मा का ग्राम रहंगी, जिला मुंगेली, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में चंद्रकांतजी हमें बाल झड़ने की समस्या का पारंपरिक उपचार बता रहे है. इनका कहना है कि  मुलैठी के चूर्ण को भांगरे के रस में मिलाकर सर पर लगाने से अथवा आंवले के चूर्ण को नीबू के रस में मिलाकर बालों पर लगाने से बालो के झड़ने में कमी आती है और बालों का कालापन बढ़ता है. दही में बालों से सम्बंधित सभी प्रकार के पोषक तत्व होते है. 1 कप दहीं में 8-10 काली मिर्च का चूर्ण मिलाकर बाल धोने से सफाई अच्छी होती है और बालों के झड़ने की समस्या में लाभ मिलता है

This is a message of Chandrakant Sharma from village Rahangi, dist. Mungeli, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional treatment of hair loss  problem. he says applying Liquorice powder on hair after adding Bhrinjraj (Eclipta alba) juice also known False daisy is useful or applying Amla (Indian gooseberry) powder after adding lemon juice is beneficial in hair loss problem.  Yogurt contains essential nutrients for hair. Washing hair by using yogurt after adding 8-10 black pepper powder is also useful to treat hair loss problem.

Share This:

पीलिया का पारंपरिक वन वनौषधिक उपचार / Traditional forest medicinal treatment of Jaundice

यह सन्देश लोमेश बच का कोरबा, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में लोमेशजी हमें पीलिया के पारंपरिक वनऔषधिक उपचार के बारे में बता रहे है. इनका कहना है कि पीलिया होने की दशा में पेट में कब्ज नहीं होने देना चाहिये. इसके उपचार के लिए कुटकी चूर्ण 3 ग्राम, मिश्री 6 ग्राम और भुईआवंला की जड़ का 3 ग्राम चूर्ण दिन में 2 बार फांक कर लाजवंती के पंचांग (फूल, पत्ते, छाल, बीज और जड़) का काढ़ा बनाकर पीना चाहिए. इसे 14 दिनों तक लगातार लेने से पीलिया में आशातीत लाभ मिलता है. दूसरा योग है मदार (सफ़ेद आक) के 20 ग्राम पत्तियों में 20 ग्राम मिश्री और 2 ग्राम कालीमिर्च पीसकर मटर के दाने समान गोली बनाकर सुबह-शाम मट्ठे के साथ एक सप्ताह तक लेने से  भी पीलिया रोग में लाभ होता है.

This is a message of Lomesh Kumar Bach from Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting use some traditional forest medicine for the treatment Jaundice. He says constipation should me avoided in Jaundice. Mix Kutki (Picrarhiza kurroa) 3 gms, sugar candy 3 gms & 3 gms bark powder of Bhuiamla  (Phyllanthus niruri) commonly known as seed under leaf in English. Taking this mixture twice a day with  decoction of leaves, seed, bark, flower & root  of Lajwanti (Mimosa pudica)  well known as touch-me-not plant twice a day for 14 days is useful. Grind 20 gms Madar also known as Crown flower tree  leaves with 20 gms sugar candy & 2 gms black pepper and make pea sized pill. Taking this pill with butter water twice a day continuously for week is beneficial.

Share This:

सूखी खांसी का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of dry cough

यह सन्देश निर्मल महतो का नवाडी, बोकारो, झारखण्ड से है. अपने इस सन्देश में निर्मलजी हमें सूखी खांसी का पारंपरिक उपचार बता रहे है. इनका कहना है कालीमिर्च और मिश्री को खाने से सूखी खांसी में लाभ मिलता है. कालीमिर्च और मिश्री को बराबर मात्रा में पीस लें और इसमें इतना घी मिलाए जिससे इसकी छोटी-छोटी गोलियाँ बन जाये. इन गोलियों को चूसने से हर प्रकार के खांसी में लाभ मिलता है. 10 ग्राम कालीमिर्च को पीसकर शहद के साथ सुबह शाम चाटने या 10 कालीमिर्च के दानो को पीसकर एक चम्मच गुनगुने घी में मिलाकर चाटने से सूखी खांसी में आराम मिलता है. कालीमिर्च के 10 दानो को पीसकर उसमे ¼ चम्मच सौंठ मिलाकर उसे 1 चम्मच शहद के साथ सुबह-शाम चाटने से कफयुक्त खांसी में लाभ होता है. 1 चम्मच पीसी हुई कालीमिर्च 60 ग्राम गुड में मिलाकर इसकी गोलियाँ बना लें. इन गोलियों को सुबह-शाम चूसें. मिश्री और धनिया समभाग लेकर उसे चावल के धोवन में मिलाकर पीने से कफयुक्त खांसी में लाभ मिलता है.

This is a message of Nirmal Mahto, Nawadi, Jharkhand. In this message Nirmalji is telling us traditional remedy to get of dry cough. He says eating black pepper after adding sugar candy is beneficial in dry cough. Grind black pepper & sugar candy in equal & make pills after adding adequate amount of ghee. This pills is useful in all types of cough problems. Licking 10 gms black pepper powder with honey or taking 10 gms black pepper powder with lukewarm ghee are also useful. Grind 10 nos black pepper add  ¼ spoon dry ginger powder taking this combination after adding 1 spoon honey can be benefited in cough containing mucus. Taking sugar candy & coriander powder in equal ratio with rice washed water is also helping to get rid of cough.

Share This: