Tag Archives: जावित्री / Mace

मोतीझरा का पारंपरिक उपचार / Traditional treatment of Typhoid

यह सन्देश रामफल पटेल का प्रज्ञा संजीवनी, पाली, कोरबा, छत्तीसगढ़ से है. इस सन्देश में रामफलजी हमें मोतीझरा के में होने वाले बुखार में उपयोगी पारंपरिक उपचार की विधि बता रहे है. पहली विधि है 10 मी.ली तुलसी की पत्तियों का रस, 10 मी.ली. अदरक का रस, 5 कालीमिर्च के दाने इन सभी को 1 चम्मच शहद के साथ मोतीझरा से पीड़ित रोगी को पिलाए और चादर ओढाकर सुला दें. इससे मोतीझरा के बुखार में लाभ मिलता है. दूसरी विधि है 10 मी.ली तुलसी की पत्तियों का रस, 10 ग्राम दालचीनी, 10 ग्राम जावित्री को 1 लीटर पानी में उबालें और जब ¼ पानी शेष बचे तो इसे मोतीझरा के रोगी को थोड़े-थोड़े अंतराल में पिलाएं इससे मोतीझरा में लाभ मिलता है. रामफल पटेल का संपर्क है 8815113134

This is a message of vaid Ramfal Patel from Pragya Sanjeevani, Pali, Korba, Chhatisgarh. In this message is is suggesting us traditional treatment tips for Typhoid. First tip he is giving is take 10 ml basil leaves juice, 10 ml ginger juice, 5 nos black pepper and giving this combination after adding 1 spoon honey to the Typhoid patient is beneficial for reducing fever. Second one is boil 10 ml basil leaves juice, 10 gms cinnamon & 10 gms mace in 1 liter water & when  ¼ water remains giving this to Typhoid patient in little quantity in short intervals is useful. Ramfal Patel is @ 8815113134

Share This: