Tag Archives: तेजपत्ता / Bay Leaf

नवजातों को होने वाली उलटी का पारंपरिक उपचार / Traditional tips to treat baby vomiting

यह सन्देश रामफल पटेल का प्रज्ञा संजीवनी, पाली, कोरबा, छत्तीसगढ़ से है. इस सन्देश में वह हमें नवजात बच्चों को होने वाली दूध की उल्टी को रोकने के पारंपरिक नुस्खे बता रहे है. इनका कहना है कि हींग को पानी में घोलकर बच्चों के पेट पर लेप करने से लाभ मिलता है. छोटी इलायची और दालचीनी का चूर्ण शहद के साथ देने से फायदा होता है. पिपली और मुलैठी के चूर्ण को नीबू के रस और शहद के साथ चटाने से लाभ होता है. सौंठ, सौंफ, बड़ी इलायची, तेजपत्ता, जीरा, और भुनी हींग को पीसकर मिश्री की चाशनी के साथ चटाने से आराम मिलता है. रामफल पटेल का संपर्क है  881113134

This is a message of Ramfal Patel from Pragya Sanjeevani, Pali, Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us some traditional tips for the treatment of Baby vomiting. He says dissolve Heeng (Asafoetida) in some water & applying this on infants stomach is useful. Giving powder of small cardamom & cinnamon after adding honey is useful. Licking paste of liquorice & long pepper after adding lemon juice & honey to infants is beneficial. Licking  to infants powder of dry ginger, aniseed, big cardamom, bay leaf, cumin & roasted asafoetida after adding sugar syrup is useful Ramfal is @ 881113134

Share This:

मधुमेह को नियंत्रित करने का पारंपरिक तरीका / Traditional method for managing Diabetes

यह सन्देश लोमेश कुमार बच का कोरबा, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस संदेश में लोमेशजी हमें मधुमेह को नियंत्रित रखने के पारंपरिक उपचार के बारे में बता रहे है. इनका कहना है कि मधुमेह को नियंत्रण में रखने के लिए 100 ग्राम तुलसी का चूर्ण, 100 ग्राम आम की गुठली का चूर्ण, 100 ग्राम नीम के बीजो का चूर्ण, 100 ग्राम मेथी के बीजों का चूर्ण, 100 तेजपान की का चूर्ण, 100 ग्राम करेले के बीजों का चूर्ण, गुडमार का चूर्ण 100 ग्राम, 100 ग्राम कासनी चूर्ण, 100 ग्राम चित्रक चूर्ण. इन सभी चूर्णों को अच्छे से मिलाकर कपडे से छान कर रख लें. इसे प्रतिदिन सुबह शाम एक छोटे चम्मच की मात्रा में भोजन के बाद लेने से मधुमेह को नियंत्रित रखा जा सकता है. लोमेश कुमार बच का संपर्क है 9753705914

This is a message of vaid Lomesh Kumar Bach from Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting traditional method for managing diabetes. He says make powder of 100 basil, 100 gms mango kernel, neem seeds 100 gms, fenugreek seeds 100 gms, bay leaf 100 gms, bitter gourd seeds 100 gms, gudmaar (Gymnema Sylvestre) 100 gms, wild  chicory 100 gms, 100 gms chitrak (white leadwort) and mix well together. After filtering by using cloth store this combination in container. Taking this in one small spoon quantity after lunch & dinner twice a day is effective for managing diabetes. Lomesh Kumar Bach is @ 9753705914

Share This:

अदरक के गुण

यह संदेश सरोजनी गोयल का बाल्को, जिला कोरबा, छत्तीसगढ़ से है…इस संदेश में सरोजनीजी अदरक के गुणों के बारे में बता रहीं है…उनका कहना है की अदरक सामान्यतः सभी घरों में आसानी से उपलब्ध होता है…इसे अक्सर चाय में डालकर पिया जाता है..और यह कई रोगों की अचूक दवा भी है…गठियावात के रोगी इसे गाय के घी में भुनकर खाए और तेल में तलकर उससे जोड़ो की मालिश करें तो उन्हें आराम मिलेगा…लकवा होने की दशा में रोगी को अदरक शहद में मिलकर खिलाये लाभ होगा..अगर पेट में तकलीफ या उल्टियाँ हो रही हो तो 5 ग्राम अदरक के रस में 5 ग्राम पुदीने का रस 2 ग्राम सैंधा नमक मिलकर खिलाये लाभ होगा…अगर खांसी हो रही हो तो अदरक के रस में उतना ही निम्बू का रस मिलकर दे खांसी में आराम होगा…नजला और जुकाम होने पर अदरक के छोटे-छोटे टुकडे काट ले और उसी के वजन के बराबर देशी घी में भुन ले..और उसमे सौंठ, जीरा, कालीमिर्च, नागकेसर, इलाइची, धनिया और तेजपत्ता मिलाकर काढ़ा बना ले और इसका प्रयोग करें…अगर उल्टियाँ हो रही हो तो अदरक का रस प्याज के रस में मिलकर पियें आराम होगा…सरोजनी गोयल का संपर्क है: 9165058483

Share This: