Tag Archives: नारियल / Coconut

चर्मरोगों का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of Skin diseases

यह सन्देश वैद्य  एच डी गाँधी का स्वास्थ्य स्वर से है. इनके अनुसार चर्मरोग होने पर 250 ग्राम नीम के पंचांग (फल, फूल, पत्तियाँ, छाल और जड़ सभी 50 ग्राम की मात्रा में), 50 ग्राम हल्दी और 50 बकुची को सुखाकर इनका चूर्ण बनाकर इसे 1 चम्मच की मात्रा में सुबह-शाम भोजन के उपरांत पानी से लेने से लाभ होता है. इसी के साथ 100 मी.ली नारियल का तेल, 100 मी.ली नीम का तेल और 100 मी.ली करंज के तेल में 10 ग्राम कपूर मिलाकर रखें. इस तेल को दिन में 2-3 बार रोग प्रभावित अंग पर लगाने से लाभ मिलता है. नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उससे नहाने से भी लाभ मिलता है. इस उपचार के दौरान बैंगन, चने और मटर से परहेज करें.

Fine grind 250 gms dried Neem (Azadirachta Indica) panchang (equal quantities of dried flowers, fruits, leaves, bark and roots) alongwith 50 gms Haldi (Turmeric) and 50 gms Bakuchi (Psoralea Coryifolia). Taking 1 teasooon this powder twice a day after meals is useful. Apply mixture of 100 ml Coconut oil, 100 ml Neem oil, 100 ml Karanj oil (Beech tree) and 10 gms Camphor together to the affected body parts. It is advisable to bathe regularly in Neem treated water. Avoid Brinjal, Chana and Matar during the treatment period.

Above message is of Vaid H D Gandhi from Swasthya Swara.

Share This:

वमन का पारंपरिक उपचार / Traditional treatment of vomiting

यह सन्देश रामफल पटेल का प्रज्ञा संजीवनी, पाली, कोरबा छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में रामफलजी हमें अम्लपित्त, अपच के कारण होने वाले वमन (उल्टी) का पारंपरिक उपचार बता रहे है. इनका कहना है कि अम्लपित्त या या अपच के कारण होने वाले वमन में बरगद की जटाओं के सिरों के नर्म अंकुरों को पीसकर उसे छानकर पीने से वमन में लाभ होता है. नारियल के पानी को पीने से भी वमन में लाभ होता है. नारियल को आग में सेंककर उसका छिलका उतार कर उसकी मींगी को पीसकर शहद के साथ चाटने से फायदा होता है. रामफल पटेल का संपर्क है 8815113134

This is a message of Ramfal Patel from Pragya Sanjeevani, Pali, Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting traditional tips for the treatment of vomiting caused due to indigestion & acidity. Grind soft Banyan tresses & after filtration drinking its juice is useful. Drinking coconut water is also useful. Roast whole coconut along with hard shell on fire. After removing hard shell grind inner soft white kernel. Licking this kernel paste with honey is beneficial in vomiting. Ramfal Patel @ 8815113134

Share This:

तुरई की आदिवासी औषधीय उपयोगिता / Tribal medicinal uses of Ridge gourd

यह सन्देश दीपक आचार्य का अभूमका हर्बल्स, अहमदाबाद से है. अपने इस सन्देश में दीपकजी हमें तुरई के आदिवासी औषधीय उपयोगो के बारे में बता रहे है. इनका कहना है कि आधा किलो तुरई को बारीक पीसकर 2 लीटर पानी में उबालकर छान लें फिर इस पानी में बैंगन को पकाएं और इन बैंगन को घी में भूनकर गुड़ के साथ खाने से बवासीर के दर्द में आराम मिलता है. आदिवासी जानकारी के अनुसार पीलिया होने पर तुरई को पीसकर इसका 2-3 बूंद रस रोगी की नाक में दिन में 3-4 बार डालने से रोगी की नाक से पीले रंग का द्रव्य बाहर आता है और इससे पीलिया रोग में लाभ मिलता है. आदिवासी जानकारों के अनुसार तुरई का सेवन करना स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है. तुरई रक्त शुद्धिकरण और यकृत के लिए हितकर है. पातालकोट के आदिवासियों के अनुसार तुरई के छोटे-छोटे टुकड़े काट कर इसे छाँव में सुखा लें फिर इन टुकड़ों को नारियल के तेल में डालकर कर 5 दिनों के रखे फिर इन्हें गर्म कर छान ले. इस तेल से बालों की मालिश करने से बाल काले और चमकदार होते है और बालों का झड़ना कम हो जाता है. तुरई में इंसुलिन की तरह पेपटाइडस पाए जाते है इसीलिए इसे मधुमेह नियंत्रण में उपयोगी माना जाता है. तुरई के पत्तों और बीजों को पानी में पीसकर त्वचा पर लगाने से दाद, खाज और खुजली जैसे रोगों में आराम मिलता है. इसे कुष्ठ रोग में भी उपयोगी माना जाता है. अपचन में तुरई की सब्जी का सेवन हितकर होता है. सांघी आदिवासियों के अनुसार तुरई की अधपकी सब्जी खाने से पेट दर्द में आराम मिलता है. दीपक आचार्य का संपर्क है 9824050784

This is a message of Deepak Acharya from Abhumka Herbals, Ahmedabad. In this message Deepakji telling us tribal medicinal uses of Ridge gourd well known as Turai in Hindi. He says boil fine grind Ridge gourd in 2 liter water then cook Brinjal using this water later on fry this boiled Brinjal’s in Ghee. Eating this Brinjal’s after adding Jaggery is useful in Pile’s pain.  According to tribal knowledge instillation 2-3 drops of Ridge gourd juice into the nose of Jaundice patient 3-4 times a day. By doing so yellow liquid comes out of the patient’s nose. It is useful in Jaundice. As per tribal knowledge regular consumption of Ridge gourd is beneficial for health.  Ridge gourd is beneficial for blood purification & for liver as well. As per tribes of Patalkot cut Ridge gourd into pieces & after shadow drying put this dry pieces in coconut oil and has to be left for 5 days then after little warming & filtration massaging hairs by using this oil is useful to get black shiny hairs & it is reducing hair fall as well. Ridge gourd contains insulin like element called Peptides. That’s why it considered to be useful in controlling diabetes. Consumption of Ridge gourd is beneficial in indigestion. As per Sanghi tribes taking half-cooked Ridge gourd as a vegetable is useful in stomachache. Deepak Acharya’s at 9824050784

Share This:

शीत ऋतु में बालों की देखभाल / Hair care in winter

यह सन्देश दीपक आचार्य का अभुमका हर्बल्स, अहमदाबाद से है ..इस संदेश में दीपकजी हमें ठण्ड के दिनों में बालो को रुसी और बाल झड़ने से बचने के देशी उपायों के बारे में बता रहे हैंवह आज हमें दो नुस्खो के बारे में बता रहे हैपहला बालों में जब रुसी हो जाये तो मैथी के दानो को पीसकर चूर्ण बना लेयह चूर्ण 3 ग्राम मात्रा में पानी में मिलाये फिर इसे बालों पर लगायें और आधे घंटे बाद बाल धों लेंऐसा सप्ताह 2-3 बार करने से रुसी से छुटकारा मिल जायेगादूसरा नुस्खा बालों को ठण्ड के मौसम में स्वस्थ और लम्बा रखने के नारियल के तेल में नीबू का रस मिलाकर सर की हलकी मालिश करेंइससे रुसी से छुटकारा मिल जायेगा तथा बाल भी स्वस्थ रहेंगेदीपकजी का संपर्क है 9824050784

This is a message of Deepak Acharya from Abhumka Herbals Pvt. Ltd., Ahmedabad…In this message he is suggesting us how to take care of hairs in Autumn… He said to protect hairs from dandruff mix 3 gram Fenugreek powder in water and apply this solution to hairs & after half an hour wash hairs properly…& this should be repeated 2-3 times a week…Second remedy to keep your hair healthy & lengthy is add Lemon juice to coconut oil and massage your hair by using this combination….Deepakji’s at 9824050784

Share This: