Tag Archives: मैथी / Fenugreek

गठियावात का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of Arthritis

यह सन्देश चंद्रकांत शर्मा का मुंगेली, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में चंद्रकांतजी हमें गठियावात के पारंपरिक उपचार के बारे में बता रहे है. इनका कहना है कि निर्गुन्डी की पत्तियों का 10-40 मी.ली रस देने अथवा सेंकी हुई मेथी का चूर्ण कपडे से छानने के बाद 3-3 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम पानी से लेने से वात रोग में आराम मिलता है. यह मेथी वाला नुस्खा घुटनों के वात में भी उपयोगी है. सौंठ के 20-50 मी.ली. काढ़े में 5-10 मी.ली. अरंडी का तेल डालकर सोने से पहले लेना भी लाभदायक होता है. चंद्रकांत शर्मा का संपर्क है 9893327457

This is a message of vaidya Chandrakant Sharma from Mungeli, Chhatisgarh. In this message he is telling us traditional remedy of Arthritis. He says taking 10-40 ml juice of Five leaved chaste tree or taking 3-3 gms fine powder of roasted fenugreek after filtered by cotton cloth twice a day with water is useful. This can also be used in knee arthritis. Taking 20-50 ml decoction of dry ginger after adding 5-10 ml castor oil at bed time is also beneficial. Chandrakant Sharma @ 9893327457

Share This:

मधुमेह को नियंत्रित करने का पारंपरिक तरीका / Traditional method for managing Diabetes

यह सन्देश लोमेश कुमार बच का कोरबा, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस संदेश में लोमेशजी हमें मधुमेह को नियंत्रित रखने के पारंपरिक उपचार के बारे में बता रहे है. इनका कहना है कि मधुमेह को नियंत्रण में रखने के लिए 100 ग्राम तुलसी का चूर्ण, 100 ग्राम आम की गुठली का चूर्ण, 100 ग्राम नीम के बीजो का चूर्ण, 100 ग्राम मेथी के बीजों का चूर्ण, 100 तेजपान की का चूर्ण, 100 ग्राम करेले के बीजों का चूर्ण, गुडमार का चूर्ण 100 ग्राम, 100 ग्राम कासनी चूर्ण, 100 ग्राम चित्रक चूर्ण. इन सभी चूर्णों को अच्छे से मिलाकर कपडे से छान कर रख लें. इसे प्रतिदिन सुबह शाम एक छोटे चम्मच की मात्रा में भोजन के बाद लेने से मधुमेह को नियंत्रित रखा जा सकता है. लोमेश कुमार बच का संपर्क है 9753705914

This is a message of vaid Lomesh Kumar Bach from Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting traditional method for managing diabetes. He says make powder of 100 basil, 100 gms mango kernel, neem seeds 100 gms, fenugreek seeds 100 gms, bay leaf 100 gms, bitter gourd seeds 100 gms, gudmaar (Gymnema Sylvestre) 100 gms, wild  chicory 100 gms, 100 gms chitrak (white leadwort) and mix well together. After filtering by using cloth store this combination in container. Taking this in one small spoon quantity after lunch & dinner twice a day is effective for managing diabetes. Lomesh Kumar Bach is @ 9753705914

Share This:

मैथी की आदिवासी पारंपरिक उपयोगिता / Tribal traditional usages of Fenugreek

यह सन्देश दीपक आचार्य का अभूमका हर्बल्स, अहमदाबाद से है. अपने इस सन्देश में दीपकजी बता रहे है कि किस प्रकार आदिवासी बहुमुत्रता के उपचार के लिए मेथी का प्रयोग करते है. इनका कहना है कि इस रोग के निवारण के लिए मेथी की भाजी का 100 मी.ली रस निकालकर उसमे आधा चम्मच कत्था और इतनी ही मिश्री मिलाकर रोज सुबह खाली पेट एक सप्ताह तक सेवन करने से लाभ मिलता है. एक चम्मच मेथी के बीजों का चूर्ण और एक चम्मच हल्दी को फांक कर पानी पियें. ऐसा करने से मूत्र वेग में कमी आती है. इस उपचार के दौरान तेल, घी, अधिक शक्कर के सेवन से बचें. इसी प्रकार घाव होने पर यदि मेथी के पत्तों का लेप उन घावों पर करके उसपर पट्टी बांध दी जाये तो घाव जल्दी भरते है. मेथी की भाजी के सेवन करने से बुखार में भी लाभ होता है. ऐसी आदिवासी मान्यता है जो व्यक्ति मेथी की भाजी का अधिक मात्रा में सेवन करते है उनके बाल देरी से सफ़ेद होते है. दीपक आचार्य का संपर्क है 9824050784

This is a message of Deepak Acharya from Abhumka Herbals, Ahmedabad. In this message he is telling us traditional tribal usages of Fenugreek. He says as per tribal knowledge extract 100 ml juice of fenugreek leaves add half 100 km  ½ tsp Catechu powder &  ½ tsp Turmeric powder. After mixing taking this combination early morning empty stomach for a week is useful for frequent urination patients. Taking 1 spoon Fenugreek powder after adding Turmeric powder in equal ratio with water can reduces urine velocity. Oily items & extra sugar should be avoided during treatment. Similarly, applying Fenugreek leaves pastes on cut & wounds is helpful in healing wounds fast. Using Fenugreek as vegetable is useful for curing fever. As per tribal beliefs consumption of Fenugreek in significant amount delays hair grey problem. Deepak Acharya’s 9824050784

Share This:

शीत ऋतु में महिलाओं की समस्याओं का उपचार / Remedy for women related problems in Autumn

यह सन्देश डॉ. पूर्णिमा श्रीवास्तव का भोपाल से है अपने इस सन्देश में वह ठण्ड के इस मौसम में महिलाओं को होने वाली समस्याओं के निदान के बारे बता रहीं है…इनका कहना है की ठण्ड के मौसम में महिलाओं को हाथ-पावों में सूजन, शरीर का दुखना, सफ़ेद पानी आना आदि समस्याएँ हो जाती है इससे निजात पाने के लिए इसका घरेलू उपचार है की हल्दी और मेथी को बराबर मात्रा में घी में भूनकर रख लें…इसमें पिपरामूल मिलाकर इसे रोज एक-एक चम्मच सुबह-शाम गुनगुने दूध या गुनगुने पानी में  में मिलाकर पियें और ठन्डे पानी और ठंडी हवाओं से बचे…ऐसा करने से ठण्ड के कारण होनेवाले दर्द सूजन और सफ़ेद पानी आने की तकलीफ में लाभ मिलता है…डॉ. पूर्णिमा श्रीवास्तव का संपर्क है:  9907029593

This is a message of Dr. Purnima Shrivastava from Bhopal, In this message she is suggesting us domestic remedy for women related problems in Autumn such as inflammation, body pain & white discharge (Likoria). She said roast Turmeric and  Fenugreek in equal quantity and after adding Pipra mul (Piper longum) take this combination one teaspoon twice a day with luke warm milk or water.. Avoid cold water & cold waves.. This can useful to cure Inflammation, body pain & women related problems…Dr. Purnima’s at 9907029593

Share This:

शीत ऋतु में बालों की देखभाल / Hair care in winter

यह सन्देश दीपक आचार्य का अभुमका हर्बल्स, अहमदाबाद से है ..इस संदेश में दीपकजी हमें ठण्ड के दिनों में बालो को रुसी और बाल झड़ने से बचने के देशी उपायों के बारे में बता रहे हैंवह आज हमें दो नुस्खो के बारे में बता रहे हैपहला बालों में जब रुसी हो जाये तो मैथी के दानो को पीसकर चूर्ण बना लेयह चूर्ण 3 ग्राम मात्रा में पानी में मिलाये फिर इसे बालों पर लगायें और आधे घंटे बाद बाल धों लेंऐसा सप्ताह 2-3 बार करने से रुसी से छुटकारा मिल जायेगादूसरा नुस्खा बालों को ठण्ड के मौसम में स्वस्थ और लम्बा रखने के नारियल के तेल में नीबू का रस मिलाकर सर की हलकी मालिश करेंइससे रुसी से छुटकारा मिल जायेगा तथा बाल भी स्वस्थ रहेंगेदीपकजी का संपर्क है 9824050784

This is a message of Deepak Acharya from Abhumka Herbals Pvt. Ltd., Ahmedabad…In this message he is suggesting us how to take care of hairs in Autumn… He said to protect hairs from dandruff mix 3 gram Fenugreek powder in water and apply this solution to hairs & after half an hour wash hairs properly…& this should be repeated 2-3 times a week…Second remedy to keep your hair healthy & lengthy is add Lemon juice to coconut oil and massage your hair by using this combination….Deepakji’s at 9824050784

Share This:

वजन घटाने का परंपरागत उपाय / Traditional method for losing weight

यह संदेश डॉ एच.डी गाँधी का स्वास्थय स्वर से है…अपने इस संदेश में डॉ. गाँधी हमें मोटापा घटाने और अतिरिक्त चर्बी को कम करने का परंपरागत तरीका बता रहे है..इनका कहना है की मोटापा कम करने के लिए 250 ग्राम मेथी-दाना, 100 ग्राम आजवाइन और 100 ग्राम वन-जीरा को भूनकर इसका चूर्ण बनाकर किसी बोतल या हवाबंद डब्बे में रख ले…यह औषधियां प्रायः सभी जगह उपलब्ध होती है… इस चूर्ण को आधा या एक चम्मच की मात्रा में रात को सोते वक्त गुनगुने पानी के साथ लेना है…इस बात का विशेष ध्यान रखे की इस चूर्ण को लेने के बाद 1 घंटे तक कुछ न खाये… यह चूर्ण सभी उम्र के व्यक्ति ले सकते है…इसका पूरा लाभ लेने के लिए इसका सेवन तीन माह तक करें…इस प्रकार करने से शरीर की अतिरिक्त वसा समाप्त होकर शरीर कांतिमय होने लगेगा…डॉ. एच डी गाँधी का संपर्क है 9424631467

This is a message of Dr. H D Gandhi from Swasthya Swara… In this message he is telling us traditional method to reduce excess fat from our body… For doing so  roast 250 gms Fenugreek seeds, 100 gms Carom seeds & & 100 gms Black cumin & grind until powder is formed. Keep this powder in a airtight container. Take this combination half to one table spoon in quantity with lukewarm water at bedtime & avoid to take any food at least an hour after taking this preparation.. For better results it should be continued for three months…Dr. Gandhiji’s at 9424631467

Share This:

मैथी के गुण / Medicinal Properties of Fenugreek

यह संदेश श्री निर्मल कुमार अवस्थीजी का वार्ड क्रमांक 4 कस्तूरबा नगर, छत्तीसगढ़ से है…यह आज मैथी के गुणों के बारे में बता रहें है… इनका कहना है की हमारे आहार में हरी साग-सब्जियों का काफी महत्व है आधुनिक विज्ञान के मतानुसार हरी सब्जियों में क्लोरोफिल नामक तत्व होता है जो जीवाणुओं का नाशक है और यह दाँतों और मसूड़ों में सडन पैदा करनेवाले कीटाणुओं का यह नाश करता है….हरी सब्जियों में प्रोटीन और लौहतत्व भी भरपूर मात्र में होता है जो शरीर में रक्त को बढ़ता है…यह शरीर के क्षार को घटा कर उसका नियमन करता है…हरी सब्जियों में मैथी का प्रयोग भारत के सभी भागों में बहुतायत से किया जाता है…कई लोग इसे सुखाकर कर भी उपयोग में लाते है… मैथी के दानो (बीजों) का प्रयोग प्रायः हर घर में बघार (छौंक) लगाने में होता है…वैसे तो मैथी वर्षभर उगाई जाती है पर विशेषकर मार्गशीर्ष से फागुन माह में ज्यादा उगाई जाती है…कोमल पत्ते वाली मैथी कम कडवी होती है… मैथी की भाजी तीखी, कडवी, रुक्ष, गरम, पित्तवर्धक और भूखवर्धक पचने में हलकी और हृदय को बल प्रदान करने वाली होती है… मैथी के बीजों की अपेक्षा मैथी की भाजी कुछ ठंडी, पचने में आसान, प्रसूता, वायु दोष वालो के लिए उपयोगी है…यह बुखार, अरुचि, उलटी, खांसी,  वातरोग, बवासीर, कृमि तथा क्षय का नाश करने वाली होती है…मैथी पौष्टिक और रक्त को शुद्ध करने वाली है…यह वायुगोला, संधिवात, मधुमेह, प्रमेह और निम्न रक्तचाप के घटाने वाली है… मैथी माता का दूध बढाती है…काम दोष को मिटाती और शरीर को पुष्ट करती है…कब्जियत और बवासीर में मैथी से सब्जी रोज खाने से लाभ मिलता है… जिसे बहुमूत्रता की शिकायत हो उसे 100 मी.ली मैथी के रस में डेढ़ ग्राम कत्था और तीन ग्राम मिश्री मिलकर प्रतिदिन सेवन करना चाहिये… इससे लाभ होगा.. निर्मल अवस्थी का संपर्क है: 9685441912

This is a message from Nirmal Awasthi from ward no. 4, Kasturba Nagar, Chhatisgarh.

In this message Nirmalji is telling us about the medicinal properties of Fenugreek (Trigonella foenum-graecum). He says – As per modern science green vegetables contain an element named “Chlorophyll”  which helps destroy bacterial & fungal infections. Green vegetables are also a very good source of Iron & minerals. Fenugreekin  is an perennial vegetable  and is commonly used in every home throughout India. Fenugreek is used both as dried as well as fresh leaves. The seeds & dried leaves of this vegetable can be used as a condiment in many foods before final serving to give flavor & aroma. This vegetable has a number of health benefits and is used in traditional medicine.

Medicinal Usages:

Fenugreek is very helpful to increase & stimulate lactation for nursing mothers.

It is beneficial for people with diabetes.

It is also helps to relieve cough & pain

Daily use of  100 gram Fenugreek juice with Catechu & sugar can cure frequent urination problem.

It is also helpful for piles patients.

Nirmal Awasthi jis contact number is: 9685441912

Share This:

हड्डी के टूटने / हड्डी का टेढ़ापन और सड़े-गले घावों का उपचार

यह संदेश निर्मल कुमार अवस्थीजी ने जांजगीर चांपा छत्तीसगढ़ के वैध मनहरलाल लाठिया का साक्षात्कार लेते समय का है.

मनहरलाल लाठिया का कहना है की वह टूटी हड्डी, हड्डी का टेढ़ापन और सड़े-गले घावों को ठीक करते है…इनका कहना है के वह एक लेप बनाते है और उसे घावों पर लगते है.. जिससे सडा-गला मांस पानी बनकर बह जाता है और नया मांस आने लगता है….यह अभी तक ऐसे लगभग 200 मरीजों को ठीक कर चुके है.. वह मरीजों को हठजोड़ खिलाते है और शंखपुष्पी का चूर्ण देते है….इनके अनुसार इन्होने एक चमत्कारी चूर्ण बनाया है जिसमे काला जीरा, अजमोठ और मैथी होती है…इस चूर्ण को देने से घावों का सड़ना-गलना रुक  जाता है और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ जाती है…अगर किसी का ज्यादा खून बहने लगे तो यह उसका भी इलाज करते है…साथ ही यह अनियमित माहवारी भी का भी इलाज करते है….यह इलाज के लिए चूर्ण और अपनी बनाई गोली भी देते है…

Share This: