Tag Archives: रसना / Pluchea lanceolata

रक्त विकारों का पारंपरिक उपचार / Traditional treatment of blood related disorders

यह सन्देश रामफल पटेल का प्रज्ञा संजीवनी, नया बस स्टैंड, पाली, कोरबा, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में रामफलजी हमें रक्त विकारो के उपचार के पारंपरिक उपाय बता रहे है. इनका कहना है कि इसके उपचार के लिए 6 ग्राम नीम की कोपलें और 21 नग कालीमिर्च को पीसकर 125 मी.ली पानी में मिलाकर छानकर लेने से लाभ मिलता है. चिरायता, मंजीठा, खैर, रसना, हरड, बकुची, नीम के फूल,  मुल्हैठी और सरफोंक का काढ़ा बनाकर पीने से भी लाभ मिलता है.

This is a message of Ramfal Patel from Pragya Sanjeevani, Pali, Korba Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional remedy for Blood related disorders. Grind 6 gms Neem seedlings with 21 nos black pepper & mix it in 125 ml water. After filtration drinking this combination is useful.  Make decoction using  Chirayata (Swertia chirayita), Manjitha (Rubia manjith), Cutch tree, Rasna (Pluchea lanceolata), Harad (Terminalia chebula), Bakuchi (Psoralea coryifolia), Neem flowers, Licorice & Wild indigo powder. Taking this decoction is useful in blood related disorders.

Share This: