Tag Archives: सुहागा / Borax

चर्मरोगों का घरेलू उपचार / Home remedies for Skin diseases

यह सन्देश वैद्य हरीश चावड़ा का ग्राम गुंडरदेही जिला बालोद, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सदेश में हरीशजी चर्मरोगों के घरेलु उपचार के बारे में बता रहे है. इनका कहना है कि अगर शरीर में किसी भी प्रकार की खाज, सूखी खुजली या शरीर पर छोटे दाने निकलकर उसमे से पानी निकलता हो तो 50 मी.ली चूने के पानी को कांसे किसी के पात्र में डाल कर उसमे 100 मी.ली सरसों का तेल डालकर उसे अच्छे से मथने पर सफ़ेद रंग का लेप बन जायेगा उस लेप को प्रभावित अंगो पर दिन में 2 बार 8-10 दिनों तक लगातार लगाने से लाभ होता है. दाद या सूखी दाद होने पर भुनी हुई फिटकरी और भुने हुए सुहागे को सामान मात्रा में लेकर उसे बारीक़ पीस लें और उसे दाद पर कुछ दिनों तक रगड़ने से लाभ होता है.

This is a message of Harish Chawda from Gundardehi, dist. Balod, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us domestic tips to treat skin diseases. He says in case of scabies, itching or small rashes on body pour 50 ml lime water & 100 ml mustered oil into any bronze container or plate & churn until white paste is formed. Applying this white paste twice a day on affected body parts continuously for 8-10 days is beneficial. In case of herpes grind roasted alum & borax in equal quantity to make fine powder. Applying this dry powder on affected body  parts for some days is useful. Harish Chawda is @ 9893765366

Share This:

सामान्य उदर रोगों का पारंपरिक उपचार – Traditional treatment of common stomach disorders

यह सन्देश वैद्य लोमेश बच का कोरबा, छत्तीसगढ़ से है अपने इस सन्देश में लोमेशजी हमें उदर रोग और उदर पीड़ा में उपयोगी पारंपरिक धन्वंतरी वटी के बारे में बता रहे है. इनका कहना है की इसके मुख्य घटक है सौंठ, सुहागे का फूल (सुहागे को गर्म तवे पर रखने पर वह फूलकर फूल जैसा बन जाता है), सैंधा नमक और उत्तम हींग सभी बराबर मात्रा में लेकर इनसे आधी मात्रा में शंखभस्म और एक भाग लौंग मिलाकर इसका वस्त्रकूट (कपडे में रखकर कूटकर) चूर्ण बना लें और इसमें बराबर मात्रा में सहजन की छाल का  रस मिलाकर छोटे झाड़ी बेर जिसे (झरबेर) भी कहते है इसके आकार की गोलियाँ बनाकर रख ले. इन गोलियों को दिन में दो बार गुनगुने पानी के साथ लेने से उदार विकारों में लाभ मिलता है. लोमेश बच का संपर्क है 9753705914

This is a message of vaidya Lomesh Kumar Bach from Korba, Chhatisgarh. In this message he is suggesting us traditional “Dhanwantari” pills useful in stomach related problems. He says for making this pills take dry Ginger, Roasted borax, Rock Salt & quality Asafoetida in equal quantity & afterward mix conch ash in half of all amount & one part Clove powder. After grinding  add Drumstick’s bark juice & make Indian plum sized pills. Taking this pills in one pill quantity twice a day with lukewarm water is useful in stomachache & other common stomach related problems. Lomesh Kumar Bach is @ 9753705914

Share This:

पथरी का पारंपरिक उपचार / Traditional treatment of Kidney stone

यह सन्देश वैद्य हरीश चावड़ा का गुंडरदेही, जिला बालोद, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में वह हमें पथरी रोग के उपचार के पारंपरिक नुस्खे बता रहे है. इनका कहना है कि पथरी चाहे पित्ताशय में हो या मूत्रनलिका में दोनों ही प्रकार की पथरी बड़ी पीड़ादायक होती है. इसके उपचार के लिए 100 ग्राम निशोथ और 100 इन्द्रजों को महीन पीसकर उसका चूर्ण बना ले. इस चूर्ण को 5-10 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम 10 से 15 दिनों तक लगातार लेने से पथरी में लाभ होता है. 25 ग्राम जवाखार, 25 ग्राम कच्चा सुहागा और 200 ग्राम बड़ा गोखरू को बारीक पीसकर चूर्ण बना ले. इसे 5 ग्राम की मात्रा में प्रतिदिन लगातार 8-10 दिनों तक लेने से पथरी के गलने में मदद मिलती है.

This is a message of Harish Chawda from Gundardehi, Dist. Balod, Chhatisgarh. In this message he is suggesting some traditional tips for getting relief in stone problems. He says whether stone of gall bladder or urinary tract both is painful. For treatment grind 100 gms Nishoth (Indian jalap) & 100 gms  Indrajav (Holarrhena pubescens) to make power. Taking this powder in 5-10 gms quantity twice a day for 10-15 days is useful. Grind 25 gms Javakhar (Easily available in the market) 25 gms raw borax & 200 gms Gokhru (Tribulus terrestris). Taking this powder in 5 gms quantity daily for continuously 8-10 days is useful to increasing possibility of removing urinary track stone while urination.  

Share This:

निमोनिया और श्वांस रोगों का पारंपरिक उपचार / Traditional remedy of Pneumonia

यह सन्देश अनंतराम श्रीमाली का सागर, मध्यप्रदेश से है अपने इस सन्देश में अनंतरामजी हमें बच्चों को होने वाले निमोनिया और श्वांस रोगों का पारंपरिक उपचार बता रहे है. इनका कहना है कि बच्चो को निमोनिया यह श्वांस का रोग होने पर सुहागा और मुलैठी 2-3 ग्राम की मात्रा शहद के साथ सुबह-शाम को देने से लाभ होता है. इस उपचार के दौरान दही, चावल और अन्य ठंडी वस्तुओं के सेवन से बचना चाहिए. तुलसी की पत्तियों के 1-2 बूंद रस में शहद मिलाकर बच्चों को चटाने से उनको सर्दी-खांसी और कंठ रोगों में लाभ मिलता है. बच्चों को दमा, माईग्रेन, साइनस, एलर्जी होने पर उन्हें तुलसी की पत्तियों का रस शहद के साथ लगातार सुबह-शाम देते रहने से लाभ मिलता है. अनंतराम श्रीमाली का संपर्क है 8462970635

This is a message of Anantram Shrimali from Sagar, Madhya Pradesh, In this message Anantramji is suggesting us traditional remedy of Pneumonia, Sinus, Cold & Cough, Allergy especially for children’s. He says in case of Pneumonia & respiratory diseases in children giving Borax & Mulethi in 2-3 gram quantity with honey is useful. During the treatment curd, rice and other cold items should be avoided. Licking 1-2 drops Basil leaves juice with honey is useful to get relief from cold & cough and it is also relaxing in throat related disorders as well. In case of Asthma, Migraine, Sinus & Allergy giving Basil leaves juice with honey twice a day continuously is beneficial. Anantram Shrimali’s at 8462970635

Share This:

निमोनिया का परंपरागत उपचार / Traditional treatment of Pneumonia

यह सन्देश रामप्रसाद निषाद का कोंडागांव, बस्तर, छत्तीसगढ़ से है. अपने इस सन्देश में रामप्रसादजी हमें निमोनिया का पारंपरिक उपचार के बारे में बता रहें है. इनका कहना है की निमोनिया एक जानलेवा बीमारी है. इसका उपचार करने के लिए 3 ग्राम सौंठ और 7 ग्राम अरंडी के बीजों को आधा लीटर पानी में उबालें और जब पानी सौ -सवा सौ मिलीलीटर बचे तो उसे मसलकर उस पानी को छान ले और निमोनिया से पीड़ित व्यक्ति को पिलायें. इस उपचार से निमोनिया से पीड़ित व्यक्ति को असाधारण लाभ मिलता है. इस उपचार के साथ 12 ग्राम भूना सुहागा और 1 ग्राम भूना नीला थोथा लेकर उसे पानी में पीसकर मूंग के दानो के बराबर गोलियाँ बनाकर सूखा लें और मरीज को 1-1 गोली पानी के साथ सुबह-शाम दें. इससे मरीज को 3-4 दिनों में लाभ मिल जाता है. इस उपचार के दौरान मरीज तेल मसालेदार वस्तुएं, खटाई, उड़द की दाल और ठंडी चीजें न दे. रामप्रसाद निषाद का संपर्क है 7879412247

This is a message of Ramprasad Nishad from Kondagaon, Bastar, Chhatisgarh. In this message he is telling us traditional remedy of Pneumonia. He said Pneumonia is a deadly disease. Boil 3 gms dry Ginger & 7 gms Castor seed in half liter water & when water remains 100-125 this can be given to the patient after filtration. Herewith, making pills about the size of Kidney beans of 12 gms roasted Borax & 1 gms roasted Copper sulfate using little water. After drying taking this single pill with water twice a day. By using this remedy the patient is benefiting in 3-4 days.  Contact of Ramprasad Nishad is 7879412247

Share This:

हकलाने / तुतलाने की चिकित्सा / Treatment of Stammering & Lisping

यह सन्देश निर्मल महतोजी का बोकारो झारखण्ड से हैअपने इस सन्देश में निर्मलजी हमें बच्चों की बीमारियों के इलाज के विषय में बता रहे हैं….बचपन में अक्सर बच्चे हकलाना, तुतलाना जैंसी बीमारियों के शिकार हो जाते हैं….इनका कहना है की फूला हुआ सुहागा शहद में मिला कर जीभ पर रगड़ने से हकलाना कम हो जाता हैदूसरा इलाज बच्चा एक ताजा हरा आंवला कुछ दिन चबाये तो उसका तुतलाना बंद हो जाता हैतीसरा इलाज यदि बच्चा मुहँ में दो काली मिर्च रखकर चबाएं और चूसें यह प्रयोग दिन में दो बार लम्बे समय तक करें…..चौथा इलाज तेजपत्ता को जीभ के नीचे रखने से रुक रुक कर बोलना और हकलाना बंद हो जाता हैनिर्मल महतो का संपर्क है 09204332389

 This message is recorded by Shri Nirmal Mahto from Bokaro, Jharkhand. In this message he is advising about the treatment of stammering (Haklanaa). To cure stammering he suggests four remedies. First is to rub puffed Borax (Suhaga) & some honey on tongue this can reduce stammering. In second treatment affected child chew fresh green Indian gooseberry (Amla) regularly for few days, it is effective to reduce Lisping. Third one is if affected child can chew 2 Black pepper twice a day regularly it can be useful. Nirmalji’s at is 09204332389…

Share This: